फास्टैग हिंदी में

जानिए क्या है फास्टैग हिंदी में


टोल भुगतान करने के लिए टोल प्लाजा में बहुत सारे वाहनों को रोक दिया जाता है और इससे टोल में ट्रैफिक की समस्या पैदा होती है। इसलिए इन ट्रैफ़िक स्थितियों को रोकने के लिए भारत सरकार ने फास्टैग भुगतान प्रणाली शुरू की है और भारत में चल रहे सभी टोल प्लाजा के लिए इलेक्ट्रॉनिक रूप से भुगतान स्वीकार करना अनिवार्य कर दिया है।

आज इस ब्लॉग लेख में, हम फास्टैग ऑनलाइन प्रक्रिया पर एक पूर्ण गाइड प्रदान करेंगे। तो इसके बारे में विस्तार से समझने के लिए बस पूरा ब्लॉग लेख पढ़ें।

फास्टैग क्या है?


फास्टैग एक तरह का टैग होता है, जिसे किसी भी नकद लेन-देन की प्रतीक्षा किए बिना, टोल प्लाजा में टोल भुगतान के स्वत: कटौती के लिए वाहन के सामने की ओर दर्पण में लगाया जाता है।

यह टोल प्लाजा पर रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) तकनीक के उपयोग के माध्यम से किया जाता है जो टोल से गुजरने वाले वाहनों के वाइडस्क्रीन पर स्वचालित रूप से फास्टैग का पता लगाता है। यह टैग उस व्यक्ति के बैंक खाते से जुड़ा होता है जो टोल प्लाजा से गुजरने वाले वाहन का मालिक है।

फास्टैग कैसे काम करता है?


फास्टैग सिस्टम वाहन के दर्पण में लगे टैग के माध्यम से इलेक्ट्रॉनिक भुगतान एकत्र करता है क्योंकि यह टैग वाहन रखने वाले व्यक्ति के बैंक खाते से जुड़ा होता है। इसके उद्देश्य से आपके बैंक में एक फास्टैग खाता बनाया जाता है। अपने खाते को सक्रिय करने के लिए आपको नियमित रूप से अपने फास्टैग खाते को रिचार्ज करना होगा।

टोल प्लाजा में, रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन टेक्नोलॉजी के साथ एकीकृत एक प्रणाली है जो स्वचालित रूप से टैग का पता लगाता है और नकद लेनदेन की भागीदारी के बिना भुगतान एकत्र करता है।

क्या फास्टैग होना अनिवार्य है?


हां, यह उन लोगों के लिए अनिवार्य है जो राष्ट्रीय राजमार्गों पर अपने निजी या व्यावसायिक वाहन चला रहे हैं। अगर आप फास्टैग के बिना पकड़े जाते हैं तो आपको भारी जुर्माना देना होगा।

फास्टैग होने के क्या फायदे हैं?


फास्टैग होने के बहुत सारे लाभ हैं लेकिन हम कुछ मुख्य बिंदुओं को उजागर करेंगे:

  1. आपको उचित फास्टैग के बिना भारी जुर्माना देना होगा।

  2. आपको नकद भुगतान के लिए टोल प्लाजा में रुकने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह आपके ईंधन और समय की बचत करेगा।

  3. टोल भुगतान के लिए व्यक्तिगत रूप से नकदी ले जाने की आवश्यकता नहीं है।

  4. आप विभिन्न रजिस्ट्रेशन और फास्टैग ट्रांजेक्शन जानने के लिए फास्टैग वेब पोर्टल पर जा सकते हैं।

  5. आप आसानी से अपने फास्टैग खाते को ऑनलाइन रिचार्ज कर सकते हैं।

  6. आप लेनदेन के लिए एसएमएस अलर्ट प्राप्त कर सकते हैं।

फास्टैग ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया


फास्टैग पंजीकरण प्राप्त करने के लिए नीचे दिए गए सरल चरणों का पालन करें:

चरण 1: हमारे ऑनलाइन फास्टैग पोर्टल पर जाएं।

चरण 2: फॉर्म में सभी विवरण यानी मोबाइल नंबर, ईमेल और वाहन का रजिस्ट्रेशन नंबर भरे।

चरण 3: फिर अपना पता, राज्य, जिला और पिनकोड दर्ज करें।

चरण 4: वाहनों के दस्तावेज अपलोड करें।

चरण 5: अपने फास्टैग आवेदन के लिए एक ऑनलाइन भुगतान करें।

चरण 6: आपका पंजीकरण पूरा हो जाने के बाद आपको पोस्ट के माध्यम से 5-7 दिनों के भीतर फास्टैग मिल जाएगा।

फास्टैग के लिए आवश्यक दस्तावेज


फास्टैग पंजीकरण के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता है:

  • वाहन का पंजीकरण प्रमाण पत्र।

  • वाहन मालिक का पासपोर्ट आकार का फोटो।

  • पहचान प्रमाण (आधार कार्ड / ड्राइविंग लाइसेंस / पासपोर्ट / आदि)।

  • एड्रेस प्रूफ (रेंट एग्रीमेंट / एनओसी / आदि)।

हमें क्यों चुने?


हम निजी सलाहकार कंपनी हैं जो लोगों को फास्टैग के लिए पंजीकरण करने में मदद करते हैं और नए फास्टैग के संबंध में सभी सेवा प्रदान करते हैं, ताकि लोगों को सरकारी पोर्टल से आवेदन न करना पड़े क्योंकि नए पंजीकरण करने वाले उपयोगकर्ताओं के लिए सरकारी वेब पोर्टल प्रक्रिया बहुत कठिन होता है। इसलिए हमेशा इस उद्देश्य के लिए एक सलाहकार नियुक्त करना बेहतर होता है।

यदि आप फास्टैग के संबंध में किसी समस्या का सामना करना पड़ रहा है तो आप हमसे buyfastagonline.org पे जुड़ सकते है और हम जल्द ही आपसे संपर्क करेंगे।

Tags fastag in hindi, fastag kya hai, fastag online in hindi, fastag online registration in hindi, fastag online process in hindi, apply fastag online in hindi